#PoliceVsLawyer चंद लाइनें साफ़ साफ़ तीसहज़ारी पर



बिटिया जैसा आपके पापा के साथ हुआ कोई भी नही चाहता की किसी के भी पापा के साथ ऐसा हो .

लेकिन आप घर जा कर एक सवाल अपने पापा से ज़रूर पूछिएगा की :-
पापा क्यूँ आप एक रिक्शे वाले , एक रेहड़ी वाले , एक छात्र ,एक ग़रीब किसान को गाली देते हैं ???

क्यूँ आप ज़रा ज़रा सी बात पर आम भारतीयों को माँ बहनों जैसे उच्च कोटि के शब्दों से नवाज़ देतें हैं ???



क्यूँ आपने पुष्पेंद्र यादव का फ़र्ज़ी एंकाउंटर कर दिया ???

क्यूँ आपने हवालात में पिंटू पटेल को मार दिया ???

क्यूँ आपने विवेक तिवारी की हत्या कर दी ???

क्यूँ आप वाहन चेकिंग के नाम पर आम छात्रों को सरे राह थप्पड़ मार देते हैं ???

क्यूँ आप गाँव ग़रीब के लोगों को फ़र्ज़ी मुक़दमे में जेल भेज देते हैं ???

पापा जेल में मात्र ग़लत विवेचना के कारण सालों साल लोग सड़ जातें हैं .

पापा क्या उन लोगों के बच्चे नहीं होते या उनका परिवार नहीं होता ???

बेटा ये सवाल ज़रूर पूछिएगा अपने पापा से क्यूँकि हर भारतीय रोज़ कहीं ना कहीं आपके पापा के ग़ुस्से का शिकार होता है .

बेटा हम सब यही चाहते हैं की आम जनता को जानवर ना समझा जाए .
#PoliceVsLawyer चंद लाइनें साफ़ साफ़ तीसहज़ारी पर #PoliceVsLawyer चंद लाइनें साफ़ साफ़ तीसहज़ारी पर Reviewed by Creative Bihari on November 05, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.